Wednesday, December 13, 2017

कौन सा कार्य सही है तथा इसका चुनाव कैसे करें।

मानव जीवन का सबसे बड़ा आधार कार्य ही होता है। कार्य के आधार पर ही मानव के व्यक्तित्व की पहचान होती है। बहुत सारे लोग इस बात को लेकर हमेशा उलझन में रहते हैं कि कौन सा कार्य सही है तथा कौन सा गलत , किस कार्य को करूँ तथा किसे नहीं , कार्य का चुनाव किस आधार पर करूँ आदि। इन उलझन के कारण वो किसी भी कार्य को पूरी ऊर्जा के साथ नहीं कर पाते।

दुनिया में दो तरह के कार्य होते हैं। 1. सही कार्य तथा 2. गलत कार्य ।
कौन सा कार्य सही है - वे कार्य जिनको करने पर हमारी मान - सम्मान बनी रहे , फायदा हो , आत्मा संतुष्ट हो , दूसरों का दिल न दुखे तथा नुकसान न हो तो ऐसे कार्य को सही कार्य कहते हैं। सही कार्य करने से जो हमें आनंद की अनुभूति होती है वही सच्चा आनंद होता है।
कौन सा कार्य गलत है - ऐसे कार्य जिनको करने पर अपनी तो फायदा हो लेकिन दूसरों का नुकसान हो तथा उनके भावनाओं को ठेस पहुंचे तो ऐसे कार्य को गलत कार्य कहते हैं। गलत कार्य करने से हमें कभी भी आतंरिक खुशी नहीं प्राप्त होगी।
कार्य का चुनाव करने का आधार निम्नलिखित है -
उत्साह के आधार पर - ऐसे कार्य का चुनाव करें जिसको करने पर आपको खुशी की अनुभूति हो , यह पता न चले कि समय कब व्यतीत हो गया।
क्षमता के आधार पर - कार्य का चुनाव करने से पहले यह जांच करें कि आप जिस कार्य को चुन रहे हैं , उसको करने में आप सक्षम हैं कि नहीं।
परिस्थिति के आधार पर -कोई भी कार्य अपनी हैसियत के हिसाब से ही चुने।
दोस्तों कैसा लगा यह लेख अपने कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं।
                                                                                                                       धन्यवाद.........

No comments:

Post a Comment